आप’’ का लोकसभा चुनाव कैंपेंन ‘‘संसद में भी केजरीवाल तो दिल्ली होगी और खुशहाल’’ लांच

Spread the love

नई दिल्ली :- आम आदमी पार्टी ( Aam aadmi party ) ने लोकसभा चुनाव के लिए ‘‘संसद में भी केजरीवाल तो दिल्ली होगी और खुशहाल’’ कैंपेंन शुक्रवार को लांच कर दिया। ‘‘आप’’ ( sansad me bhi kejriwal ) के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और पंजाब के सीएम भगवंत मान ने दिल्ली के चारों उम्मीदवारों के साथ यह कैंपेन लांच किया.

इस दौरान अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी आपका बेटा भाजपा, एलजी और केंद्र सरकार से अकेले लड़ रहा है। इस बार इंडिया गठबंधन को सातों सांसद देकर अपने बेटे को मजबूत करें। मैं दिल्लीवालों के लिए जो भी अच्छा काम करने जाता हूं, उसे ये लोग रोकते हैं। जब आपकी दवाई- पढ़ाई, बिजली-पानी रोकी जा रही थी, तब भाजपा के सातों सांसद आपको दुखी देखकर ताली बजा रहे थे। मैं इन लोगों से लड़-लड़कर आपकी मोहल्ला क्लीनिक, फ़रिश्ते स्कीम, मुफ्त बिजली को पास कराकर लाया। अब मैंने महिलाओं को एक हजार रुपए देने का एलान किया है। कोई सोच भी नहीं सकता था कि ऐसा हो सकता है। इस दौरान पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव डॉ. संदीप पाठक, दिल्ली प्रदेश संयोजक गोपाल राय, आम आदमी पार्टी के लोकसभा उम्मीदवार महाबल मिश्रा, सोमनाथ भारती, सहीराम पहलवान, कुलदीप कुमार भी मौजूद रहे.

एक मामूली आदमी को इतनी बड़ी जिम्मेदारी देने के लिए दिल्लीवालों का मैं हमेशा एहसानमंद रहूंगा- अरविंद केजरीवाल

इस दौरान आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने ‘‘संसद में भी केजरीवाल, तभी दिल्ली होगी और खुशहाल’’ कैंपेन लांच किया। आज से 12 साल पहले आम आदमी पार्टी बनी थी और लगभग 10-11 साल पहले दिल्ली के लोगों ने ढे़र सारा प्यार देकर, विश्वास करके हम लोगों को भारी बहुमत देकर जीताया था और दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बनाई थी। हम बहुत छोटे और मामूली लोग हैं। फिर भी दिल्ली के लोगों ने बहुत प्यार और विश्वास के साथ हमें इतनी बड़ी जिम्मेदारी दे दी। हमने हमेशा कहा है कि मैं दिल्लीवालों का हमेशा एहसानमंद रहूंगा कि इतने छोटे से आदमी को इतनी बड़ी जिम्मेदारी देकर इतनी बड़ी कुर्सी पर बैठा दिया। सात जन्म तक भी दिल्लीवालों की सेवा करता रहूं तो उनके एहसान को नहीं चुका सकता हूं. मैंने कभी अपने आपको मुख्यमंत्री नहीं समझा. दिल्ली में दो से ढाई करोड़ लोग रहते हैं। मैंने दिल्ली के हर परिवार का बेटा बनकर और उनके परिवार हिस्सा बनकर उनकी मुश्किलें दूर करने की पूरी कोशिश की है.मैंने हर परिवार का सहारा बनने की कोशिश की है।

आज मैं दिल्लीवालों के लिए जो कुछ भी कर रहा हू, यह मेरा फर्ज है- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में किसी भी परिवार में कोई बीमार होता है तो तकलीफ मेरे दिल में होती है। दो दिन पहले एक टीवी चैनल वाला एक बूढ़ी महिला से पूछ रहा था और वो बूढ़ी महिला कह रही थी कि केजरीवाल की वजह से मेरी जान बच गई। उस अम्मा ने बताया कि मेरी बाइपास सर्जरी हुई है। सर्जरी में 8 लाख रुपए का खर्चा था। मेरा बेटा 10 हजार रुपए महीना भी नहीं कमाता है। वो इलाज नहीं करा सकता था। केजरीवाल के अस्पताल में मेरा सारा इलाज मुफ्त हो गया और एक पैसा नहीं देना पड़ा। आज मैं जिंदा हूं तो केवल केजरीवाल की वजह से जिंदा हूं। मैं उस अम्मा से कहना चाहता हूं कि मां आपने हमें बहुत बड़ा आशीर्वाद दिया है। आज मैं जहां पर हूं, आपकी वजह से ही हूं। मैं आपलोगों के लिए जो कुछ भी कर रहा हू, यह मेरा फर्ज है। हर दिल्लीवाले के परिवार को किस तरह से मदद करूं, उनकी मुश्किलों को किस तरह दूर करूं, यही मेरी कोशिश रहती है।

मेरी कोशिश है कि जैसी अच्छी शिक्षा मेरे बच्चों को मिली, वैसी ही शिक्षा मुफ्त में हर बच्चे को मिले- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मेरी कोशिश है कि जैसी अच्छी शिक्षा मेरे बच्चों को मिली है, वैसी ही शिक्षा मुफ्त में दिल्ली और देश के हर बच्चे को मिले। इस देश में मेरे बच्चों को अच्छी शिक्षा दी। मुझे भगवान ने बहुत कुछ दिया है। जब मैं बीमार होता हूं और जैसा इलाज मुझे मिलता है, वैसा ही इलाज दिल्ली के हर गरीब से गरीब आदमी को भी मिलना चाहिए। पैसे की कमी की वजह से कोई इलाज से वंचित नहीं रहना चाहिए। आज पूरे देश में केवल दिल्ली और पंजाब में 24 घंटे बिजली मिलती है। इसके अलावा देश के किसी भी राज्य में 24 घंटे बिजली नहीं आती है। वहां लबे-लंबे पावर कट लगते हैं, इंडस्ट्री को बिजली नहीं मिलती है। पूरे देश में केवल दिल्ली और पंजाब में जनता को फ्री बिजली मिलती है। बाकी राज्यों में बहुत महंगी बिजली मिलती है। कई लोगों की पूरी तनख्वाह ही बिजली के बिल जमा करने में खर्च हो जाती है। हमारे कार्यकर्ता कैंपेन का पर्चा दिल्ली में घर-घर बांटने जाएंगे। इस पैर्चे में वो सारे काम लिखे हुए हैं, जो हमने किया है।

जब एमसीडी में भाजपा की सरकार थी, तब उसने सरकारी मोहल्ला क्लीनिक पर बुल्डोजर चलवा दिया- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि भाजपा वाले, एलजी साहब और केंद्र सरकार हमारे सारे काम रोकने की कोशिश करते हैं। मैं दिल्ली की जनता के लिए जो भी अच्छा काम करने की कोशिश करता हूं, ये लोग हर काम रोकने की कोशिश क्यों करते हैं? क्योंकि ये लोग दिल्ली के दो करोड़ लोगों से नफरत करते हैं। ये लोग इसलिए नफरत करते हैं, क्योंकि दिल्लीवालें ने इतनी जुर्रत की कि एक मामूली आदमी को लगातार तीन बार दिल्ली का मुख्यमंत्री बना दिया। यही दिल्लीवालों का कसूर है। इसलिए भाजपा वाले, एलजी साहब और केंद्र सरकार दिल्लीवालों से नफरत करते हैं। ये लोग दिल्ली की जनता से बदला ले रहे हैं। छह-सात साल पहले जब मैं मोहल्ला क्लीनिक बना रहा था, तब एमसीडी के अंदर भाजपा की सरकार थी। एमसीडी में सरकार चला रही भाजपा ने बुल्डोजर भेजकर दिल्ली सरकार के सरकारी मोहल्ला क्लीनिक को तोड़ दिए। इतने गंदे लोग कौन हो सकते हैं?

इन लोगों ने मोहल्ला क्लीनिक की बिजली काट दी, दवाइयां, टेस्ट और किराया रोक दिया- अरविंद केजरीवाल

सीएम ने कहा कि फोर्ब्स मैगजीन ने 2021 में कहा है कि पूरी दुनिया के अंदर सबसे ज्यादा सीसीटीवी कैमरे का घनत्व दिल्ली के अंदर है। आज दिल्लीवालों को इसका फक्र है। हमने केवल पांच साल में दिल्ली में सबसे ज्यादा सीसीटीवी कैमरे लगवा दिए। लेकिन जब मैंने सीसीटीवी कैमरे लगाने चालू किए तो एलजी साहब ने इसकी फाइल रोक दी। एलजी साहब ने मुझे सीसीटीवी कैमरे नहीं लगाने दिए। तब मैं, गोपाल राय, सत्येंद्र जैन और मनीष सिसोदिया एलजी साहब के घर के अंदर 10 दिन तक धरना दिया था। तब उन्होंने सीसीटीवी कैमरे लगाने की फाइल को मंजूरी दी थी। हम घर-घर राशन देना चाहते थे, लेकिन इन्होंने इसकी भी फाइल रोक ली। भाजपा, केंद्र सरकार और एलजी ने मिलकर पिछले दो महीने तक मोहल्ला क्लीनिक की बिजली काट दी, मोहल्ला क्लीनिक का किराया रोक दिया, सारे मोहल्ला क्लीनिक की दवाइयां रोक दी, टेस्ट बंद कर दिए। इतना निर्दयी कौन हो सकता है जो गरीबों का इलाज बंद कर दे। इन्होंने योगा क्लासेज बंद कर दी। लोगों को योग कराने के लिए फ्री टीचर दिया जाता था।

जब ये आपकी दवाइयां, टेस्ट, योगा और बच्चों की पढ़ाई रोक रहे थे, तब भाजपा के सातों सांसद तालियां बजा रहे थे- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारी फरिश्ते स्कीम को भी इन्होंने रोक दिया। फरिश्ते स्कीम के तहत अगर दिल्ली में किसी की सड़क दुर्घटना हो जाए तो उसका बड़े से बड़े महंगे अस्पताल में पूरा इलाज मुफ्त कराते थे। इस स्कीम के तहत मैंने 23 हजार लोगों की जान बचाई थी, लेकिन एलजी साहब ने फरिश्ते स्कीम बंद कर दी। इसके खिलाफ मैं सुप्रीम कोर्ट गया। कोर्ट से ऑर्डर लाकर फरिश्ते स्कीम को दोबारा चालू कराया। मैंने दिल्ली की जनता का एक भी काम बंद नहीं होने दिया। इन्होंने दवाइयां बंद की तो इनसे लड़-लड़ कर दोबारा चालू करवाई। टेस्ट बंद किए, उसे भी लड़-लड़ कर दोबारा चालू कराए। मैं दिल्ली की जनता से पूछना चाहता हूं, आपने भाजपा के सात सांसद चुने थे, जब इन्होंने आपकी दवाइयां, पढ़ाई, योगा बंद किया जा रहा था, तब ये सातों सांसद कहां थे? तब भाजपा के ये सातों सांसद बैठकर तालियां बजा रहे थे। जब दिल्लीवालों के घर में कोई बीमार होता है तो भाजपा के ये सातों सांसद ताली बजाते हैं, खुशी मनाते हैं। जब दिल्ली के लोग किसी चीज के लिए तरसते हैं तो ये सांसद ताली बजाते हैं। हम ऐसे लोगों को क्यों पालकर दूध पिला रहे हैं? जब संसद के अंदर अध्यादेश पास कर दिल्ली के लोगों का हक छीना जा रहा था, तब ये सातों सांसद कहां थे? एलजी के पास जाकर ये सातों सांसद आपके काम रूकवाते हैं। हम ऐसे लोगों को वोट ही क्यों देते हैं?

मैं बता नहीं सकता कि कितनी मुश्किल से आपकी बिजली सब्सिडी पास करवाई है- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि गुरुवार को मैंने कैबिनेट में बिजली सब्सिडी पास की है। मैं बता नहीं सकता हूं कि मुझे बिजली सब्सिडी को पास कराने के लिए इनसे कितना लड़ना पड़ा है। मैं तो यही कहता हूं कि हम अच्छे काम कर रहे हैं, तुम भी करो। मैंने दिल्ली में 24 घंटे बिजली कर दी, ये लोग भी उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश समेत जिन राज्यों इनकी सरकार है, वहां 24 घंटे बिजली क्यों नहीं करते हैं? हमने बिजली मुफ्त कर दी, ये लोग भी भाजपा शासित राज्यों में बिजली मुफ्त करें। ये लोग यह काम नहीं करेंगे। भाजपा वाले कहते हैं कि न हम करेंगे और न तुमको करने देंगे। दिल्लीवालों मैं बता नहीं सकता हूं कि कितनी मुश्किल से आपकी बिजली सब्सिडी पास करवाई है। अब अगले एक साल तक दिल्ली की जनता को फ्री बिजली मिलती रहेगी।

दिल्लीवालों से अपील, विधानसभा की तरह इस बार संसद में भी अपने बेटे को मजबूत करें- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा कि आज मैं एलजी, भाजपा वालों, सातों सांसदों और केंद्र सरकार से अकेला लड़ रहा हूं। दिल्लीवालों ने मुझे अपना बेटा बोला है। अगर दिल्लीवालों ने मुझे अपना बेटा बोला है तो अपने बेटे को इस तरह अकेला तो नहीं छोडेंगे। आज मैं अपने दिल्लीवालों से अपील कर रहा हूं कि आप अपने बेटे को मजबूत करो। दिल्लीवालों ने विधानसभा में एक मुझे 70 में से 67 सीटें देकर मजबूत किया। दूसरी बार 70 में से 62 सीट देकर मेरा हाथ मजबूत किया। आज मैं जो इनसे लड़ पा रहा हूं और थोड़ा-बहुत काम कर पा रहा हूं तो इसी वजह से कर पा रहा हूं, क्योंकि आपने मुझे प्रचंड बहुमत दिया था। अगर आपने मुझे 70 में से 40 सीट दी होती तो भाजपा वाले हमारे विधायकों को डरा-धमकाकर खरीद लेते और सरकार गिरा देते। यह तो दिल्ली की जनता की दुआ, आशीर्वाद और प्यार है कि आपने 70 में 62 सीट दी। जैसे आपने विधानसभा में मेरे हाथ मजबूत किए, वैसे ही अब संसद में भी मेरे हाथ मजबूत कीजिए। संसद में दिल्ली से इंडिया गठबंधन को सातों सांसद दे दो, ये सात एमपी मेरे बड़े-बड़े हाथ बनकर काम करेंगे। अगली बार केंद्र सरकार या एलजी हमारे काम रोकेंगे, ये सातों एमपी काम कराकर लाएंगे। संसद के अंदर अगर दिल्लीवालों के हक मारे जाएंगे तो ये सातों सांसद आपकी आवाज बनेंगे। ये सातों एमपी इंडिया गठबंधन को मिल गए तो हमारे हाथ मजबूत होंगे और फिर आपका काम रोकने की किसी की हिम्मत नहीं होगी।

भाजपा वाले आपसे नफरत करते हैं और मैं आपसे प्यार करता हूं, इन्हें वोट मत देना- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने में कहा कि भाजपा वाले चारों तरफ यह कहते हुए घूम रहे हैं कि हमारी 370 सीटें आ रही हैं, हमें दिल्लीवाले नहीं चाहिए। इनको दिल्लीवालों की जरूरत ही नहीं है। ये खुलेआम कह रहे हैं कि भाजपा की 370 सीटें आ रही हैं। इनको दिल्लीवालों के वोट चाहिए ही नहीं। इनको दिल्ली के सांसद ही नहीं चाहिए, लेकिन मुझे दिल्लीवालों की जरूरत है। मुझे दिल्ली के ढाई करोड़ लोग चाहिए। मैं दिल्लीवालों से प्यार करता हूं और भाजपा वाले दिल्लीवालों से नफरत करते हैं। मैं दिल्ली के एक-एक घर वोट मांगने आउंगा, लेकिन ये लोग आपके घर नहीं आएंगे। क्योंकि इनको बहुत अहंकार हो गया है। दिल्लीवालों से अपील है कि जिसको वोट चाहिए, उसको दीजिए, जिसको नहीं चाहिए, उसको क्यों दे रहे हैं?

मैंने महिलाओं को एक हजार महीना देने की घोषणा की है, जो बजट में पास हो गया है- अरविंद केजरीवाल

सीएम ने कहा कि हमने दिल्ली की हर महिला को एक हजार रुपए देने का एलान किया है। इस एलान से दिल्ली की महिलाएं बहुत खुश हैं। महिलाओं को यकीन नहीं हो रहा है। महिलाएं कह रही हैं कि ऐसा भी हो सकता है क्या? मैं दिल्ली की सारी मां-बहनों से कहना चाहता हूं कि पिछले 10 वर्षों में दिल्ली के अंदर ऐसे-ऐसे काम हुए हैं, जिसके बारे में कभी सोचे भी नहीं थे। कभी नहीं सोचा था कि बिजली मुफ्त और 24 घंटे आ सकती है। पूरी दुनिया में ऐसा कभी नहीं हुआ। केजरीवाल के समय में अभी और भी कई सारे चमत्कार होने बाकी हैं। सारी महिलाओं से कहना चाहता हूं कि मैं हूं, आपको एक हजार रुपए दिला कर रहूंगा। आज मैं कोई इसका एलान नहीं कर रहा हूं, बल्कि यह बकायदा बजट के अंदर पास हो चुका है। विधानसभा में यह पास हो गया है। यह स्कीम चालू होगा। इसके बदले मैं यही मांग रहा हूं कि आप मुझे लोकसभा चुनाव में अपना आशीर्वाद दे देना।

अगर दिल्लीवाले हमें सातों सांसद दे देते हैं तो वो हर जगह आपकी आवाज बनेंगे- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने अंत में कहा कि आप भाजपा के सातों एमपी जीता देते हैं, बदले में आपको क्या मिलता है? ये सातों सांसद केवल और केवल आपके काम रोकते हैं और कुछ नहीं करते हैं। पिछले 10 साल में दिल्ली के व्यापारियों को बहुत समस्याएं हुई हैं। एक बार नोटबंदी, फिर जीएसटी आ गई। मैं दिल्ली के व्यापारियों से पूछना चाहता हूं कि क्या कभी एक भी सांसद ने आपकी आवाज उठाई। किसी भाजपा के सांसद की हिम्मत ही नहीं है कि वो आपकी आवाज संसद में उठा दे। मैं और हमारे सातों सांसद आपकी आवाज बनेंगे। दिल्ली के अंदर डीडीए है। हमारी डीडीए के अंदर नहीं चलती है। हमें सातों सांसद देंगे तो डीडीए में भी आपके काम करा कर लाएंगे, दिल्ली पुलिस में सारे काम कराकर लाएंगे। दिल्ली के अंदर केंद्र सरकार की कई सारी संस्थाएं हैं, लेकिन उनमें दिल्ली वालों की कोई आवाज नहीं है। इन सारी जगहों पर हमारे सांसद आपकी आवाज बनेंगे। चुनाव के दौरान हमारे कार्यकर्ता एक-एक घर जाएंगे।

आम आदमी पार्टी नफरत की नहीं, केवल काम की राजनीति करती है- भगवंत मान

इस दौरान पंजाब के सीएम सीएम भगवंत मान ने दिल्ली की जनता से अनुरोध करते हुए कहा कि दिल्लीवालों ने आम आदमी पार्टी को बहुत प्यार दिया है। दिल्ली की जनता ने ही आम आदमी पार्टी की जड़े दिल्ली में जमाई। दिल्ली की जनता ने एक बार 70 में से 67 सीटें और दूसरी बार 70 में से 62 सीटें दी। इतना प्रचंड जनादेश पूरे देश में कहीं भी किसी भी पार्टी को नहीं मिला है। अरविंद केजरीवाल को दिल्ली में बार-बार जीतने का मुख्य कारण यह है कि आम आदमी पार्टी काम की राजनीति करती है। हम नफरत और नाम की राजनीति नहीं करते हैं। दिल्ली में मोहल्ला क्लीनिक बनने शुरू हुए, सरकारी स्कूल बनने शुरू हुए। बिजली मुफ्त आनी शुरू हुई। बुजुर्गों के लिए तीर्थयात्रा शुरू हुई, दिल्लीवालों को घर-घर राशन देने की बात हुई। हमने दिल्ली की चीजें अपनाकर पंजाब में दो-तीन गुना करके लागू किया है। पंजाब में आज 829 मोहल्ला क्लीनिक हो चुके हैं और अभी तक 1.25 करोड़ लोग अपना इलाज कराकर ठीक हो चुके हैं। उनको बड़े अस्पतालों में जाने की जरूरत नहीं पड़ी।

दिल्लीवालों के लिए केजरीवाल अकेले भाजपा और केंद्र सरकार से लड़ रहे हैं- भगवंत मान

सीएम भगवंत मान ने केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा दिल्ली के साथ किए जा रहे व्यवहार के बारे में कहा कि अरविंद केजरीवाल जब भी कोई अच्छा काम करते हैं, उस पर केंद्र सरकार द्वारा रोक लगा दी जाती है। मोहल्ला क्लीनिक की दवाइयां रोक दी, उसकी बिजली काट दी। घर-घर राशन की स्कीम लागू नहीं करने दी। सरकारी स्कूल बन रहे थे, उसे भी रोक दिया। आज दिल्ली की जनता के लिए अरविंद केजरीवाल को अकेले केंद्र की भाजपा सरकार के साथ लड़ना पड़ रहा है। हम बात-बात पर बार-बार सुप्रीम कोर्ट जा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की संवैधानिक पीठ सर्व सम्मनित से फैसला देता है कि दिल्ली में सर्विसेज चुनी हुई सरकार के अधीन होगा, उसे भी केंद्र सरकार ने अध्यादेश लाकर रोक दिया। इस बार दिल्लीवालों को फैसला करना है कि क्या उनको वोट देंगे, जो उनकी दवाइयां रोक रहे हैं, आपके बच्चों की पढ़ाई और आपका इलाज रोक रहे हैं, आपका कामकाज रोक रहे हैं। दिल्ली की जनता को पानी न मिले, इसलिए इन लोगों ने दिल्ली जल बोर्ड का भट्ठा बैठा दिया। शिक्षा, स्वास्थ्य, पानी और बिजली हर आदमी का मौलिक अधिकार है। संविधान में यह लिखा हुआ है और ये लोग इसको भी रोक रहे हैं। ये लोग क्या दिल्लीवालों को किसी और देश का समझ रहे हैं। इस दौरान दिल्ली के भाजपा के सातों सांसद केवल गालियां देने में लगे हुए थे।

अगर दिल्ली-पंजाब में प्रचंड बहुमत नहीं होता तो ये लोग हमारी सरकार चलने नहीं देते- भगवंत मान

सीएम भगवंत मान ने कहा कि दिल्लीवालों से मेरी विनती है कि आज अरविंद केजरीवाल आप के लिए इन लोगों से अकेले लड़ रहे हैं। अगर आप दिल्ली के सातों सांसद आम आदमी पार्टी को दे देते हैं तो अरविंद केजरीवाल को सात और हाथ मिल जाएंगे। पंजाब के लोग आम आदमी पार्टी को सभी 13 सीटें देने जा रहे हैं। कुरुक्षेत्र से हमारा प्रत्याशी जीतने जा रहा है। आम आदमी पार्टी असम और गुजरात में भी चुनाव लड़ रही है। हमारे 10 राज्यसभा सांसद पहले से हैं। जब आम आदमी पार्टी की संसद के दोनों सदनों में 30-40 हो जाएगी तो वो एक राजनीति शक्ति बनती है। जब हमारे 30-40 सांसद इकट्ठे होकर दिल्ली के लोगों के हकों की लड़ाई लड़ेंगे तो किसी की हिम्मत नहीं है कि वो दिल्ली और पंजाब का कोई काम रोक सके। पंजाब सरकार का केंद्र सरकार ने 8 हजार करोड़ रुपए रोक रखा है। ये लोग डबल इंजन की सरकार कहते हैं। पिछले दिनों कठुआ से इंजन बिना ड्राइवर के ही आ गया था। इनके इंजन भी बिना ड्राइवर के हैं। दिल्ली में 62 और पंजाब में 92 सीटें हैं, तभी आम आदमी पार्टी की सरकार चल पा रही है। अगर दिल्ली में हमारी 40 और पंजाब में 65-70 सीटें होती तो अब तक ये लोग सरकार गिरा चुके होते। हिमाचल इसका उदाहरण है। दिन-रात इनको सिर्फ विधायक तोड़ने-खरीदने का ही काम करना आता है।

हम लोग जनता के लिए लड़ रहे हैं तो ये लोग हमारे नेताओं को जेल में डाल रहे हैं- भगवंत मान

सीएम भगवंत मान ने कहा कि इन लोगों देश बेच दिया और आधे से ज्यादा मीडिया व विधायक भी खरीद लिए। इसलिए इनको लगता है कि इनके बिना सत्ता ही नहीं होगी। दिल्लीवाले समझदार और पढ़े-लिखे लोग हैं। दिल्ली देश में सबसे ज्यादा टैक्स देने वाला राज्य है। टैक्स का पास वापस दिल्लीवालों के पास आना चाहिए, लेकिन नहीं आ रहा है। यह टैक्स का पैसा कहां जा रहा है? इनकी पार्टी का मुख्यायल किसी सेवन स्टार होटल से कम नहीं लगता है। दिल्ली के लोगों का पैसा यहां लग गया और यहीं पर बैठ कर ये लोग दिल्लीवालों के खिलाफ फैसले करते हैं। हम लोग जनता द्वारा चुने हुए लोग हैं, ये लोग भी चुनकर आ जाएं। रामलीला मैदान में यही बात हमसे कहा जाता था कि सड़कों पर फैसले नहीं होते हैं, चुनकर कर आइए। हमारी तरह ये लोग भी चुनकर आ जाएं। ये लोग जनता द्वारा चुने नहीं जाते हैं, तो चुने हुए लोगों को खरीद लेते हैं। इन्होंने देश के लोकतंत्र को पंसारी की दुकान बनाकर रख दिया है। हम जनता के लिए लड़ रहे हैं, तो ये लोग हमारे नेताओं को उठाकर जेल में डाल दे रहे हैं। अरविंद केजरीवाल को ईडी के अब तक 9 नोटिस आ चुके हैं। ईडी वाले बुलाने का कारण नहीं बताते हैं। यह बात समझने वाली है कि तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, केरल, दिल्ली और पंजाब के राज्यपाल व उपराज्यपाल ही क्यों मुख्यमंत्रियों को चिट्ठियां लिखते हैं। कभी उत्तर प्रदेश और गुजरात के राज्यपालों ने अपने मुख्यमंत्री को चिट्ठी क्यों नहीं लिखी? इन राज्यों का भी एक ही तिरंगा झंडा है। इन राज्यों में भी देशभक्त लोग रहते हैं।

संसद में हमें ताकत मिलेगी, तभी दिल्ली के अंदर हम अपनी योजनाएं अच्छे से लागू कर पाएंगे- भगवंत मान

सीएम भगवंत मान ने कहा कि हम दिल्ली के एक-एक घर अपनी योजनाएं लेकर आएंगे, लेकिन योजनाएं तभी लागू हो पाएंगी, जब आप विधानसभा की तरह लोकसभा में भी आम आदमी पार्टी को शक्ति प्रदान करें। दिल्ली में हमारे काम को ये लोग रोक रहे हैं और आपके काम कराने के लिए हमें लोकसभा में शक्ति की जरूरत है। अगर ऐसे हालातों में भी शानदार काम हो रहे हैं तो लोकसभा में ताकत बढ़ने पर और कितना अच्छा काम हो सकता है। मेरी अपील है कि इस बार आम आदमी पार्टी को एकतरफा वोट देकर जिताएं। झाड़ू सफाई के लिए होती है, इससे राजनीतिक गंदगी को साफ करें। दिल्लीवालों से अपील है कि पिछली बार की तरह इस बार इनके सांसद जीताकर अपने पैरों पर कुल्हाड़ी न मारें। यही सातों सांसद आपके इलाके में काम नहीं होने देते हैं। एक सांसद को विकास कार्य के लिए हर साल 5 करोड़ रुपए मिलता है। यह पैसा कहां खर्च हुआ है? इसलिए भाजपा ने सबकी टिकटें काट दी है। अब नए लोगों को टिकट देंगे। आम आदमी पार्टी के लोग काम करना जानते हैं। हमारे पास अब अनुभव भी है। हमारा नारा है कि इस बार संसद में भी केजरीवाल, तभी दिल्ली बनेगी खुशहाल। हम पैसे कमाने राजनीति में नहीं आए हैं। हम लोग अपना अच्छा करियर छोड़कर यहां आए हैं। हम केवल जनता की सेवा करना चाहते हैं।

कैंपेन का पर्चा लेकर दिल्ली में एक-एक घर जाएंगे ‘आप’’ कार्यकर्ता

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान की शुरूआत करने के दौरान एक पर्चा भी जारी किया। इस पर्चे में दिल्ली में ‘‘आप’’ की सरकार ने अब तक दिल्लीवालों के लिए क्या-क्या काम किया है, उसकी पूरी जानकारी दी गई है। इस प्रचार अभियान के दौरान आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता पर्चे को लेकर एक-एक घर जाएंगे और लोगों को ‘‘आप’’ की सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताएंगे। साथ ही कार्यकर्ता यह भी बताएंगे कि पिछले 9 सालों के दौरान जनहित की इन योजनाओं को लागू होने से रोकने के लिए भाजपा ने एलजी के जरिए कितनी बाधाएं खड़ी की। इसके बावजूद सीएम अरविंद केजरीवाल ने इन लोगों से लड़-लड़कर अंततः इन योजना को धरातल पर उतारा और जनता को सभी सुविधाएं प्रदान की।