दिल्ली जल बोर्ड के बोरवेल में गिरे शख्स की मौत, सीएम केजरीवाल ने जताया दुख, भाजपा ने की मुआवजा की मांग

Spread the love

नई दिल्ली: केशोपुर इलाके में दिल्ली जल बोर्ड के बोरवेल में गिर कर शख्स की मौत हो गई है. एनडीआरएफ की टीम ने शव को बाहर निकाल लिया है.

इस पूरे हादसे पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दु:ख जताया है.साथ ही इस रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए एनडीआरएफ का धन्यवाद किया है. इस घटना को लेकर दिल्ली सरकार के मंत्री आतिशी ने कहा कि बोरवेल के कमरे में शख्स कैसे घुसा और कैसे गिरा इसकी जांच की जाएगी.

दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष वीरेन्द्र सचदेवा ने भी केशोपुर मंडी में दिल्ली जल बोर्ड के परिसर स्थित एक बोरवेल में एक व्यक्ति की गिरकर मृत्यु पर गहरा दुख व्यक्त किया है.

उन्होने कहा है की दुर्घटना के बाद मुख्य मंत्री अरविंद केजरीवाल एवं जल मंत्री सुश्री आतिशी का बोरवेल के कमरे को ट्वीट कर सुरक्षित बताना अपनी सरकार एवं जलबोर्ड अधिकारियों के बचाने की घिनौनी साजिश बताया है.

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने कहा है की दिल्ली में जलबोर्ड द्वारा लापरवाही से छोड़े गड्डे या बोरवेल में गिरने के हादसे का मात्र 10 दिन में यह दूसरा मामला है.

खेदपूर्ण है की गत 28 फरवरी को अलीपुर के मौहम्मदपुर में रमेश चन्द्र नामक युवक की लापरवाही से खुले छोड़े गए सीवर गड्डे में गिरने से मौत हुई जिसे सरकार ने लीपापोती कर दबा दिया पर आज केशोपुर मंडी जलबोर्ड कार्यालय की दुर्घटना की जानकारी पुलिस ने सार्वजनिक कर दी, भाजपा को भी मालूम हुई और हमारी प्रदेश महामंत्री और लोकसभा चुनाव प्रत्याशी श्रीमति कमलजीत सहरावत सहयोगी कार्यकर्ताओं के साथ घटनास्थल पर पहुंची और जांच-परख की तो पाया की बोरवेल एक पुराने खंडहर हाल कमरे मे है, जिसकी दीवार खिड़की टूटे हैं और कोई भी घुस सकता है।

श्री वीरेन्द्र सचदेवा ने कहा है की यह शर्मनाक है की केजरीवाल सरकार लगातार जलबोर्ड के घोटालों ही नही हादसों को भी दबाती है क्योंकि जलबोर्ड मे हो रहे कुकृतयों में सरकार बराबर की सांझीदार है।

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने मांग की है कि दिल्ली सरकार अलीपुर के मौहम्मदपुर एवं केशोपुर मंडी दोनों हादसों के मृतकों के परिजनों को एक-एक करोड़ रूपये का मुआवजा दे।