चाहे कुछ भी कहो गौतम गंभीर ने काम तो बहुत किए

Spread the love

एम. खान
नई दिल्ली :-पूर्वी दिल्ली के भाजपा सांसद गंभीर गंभीर (MP Gautam gambhir )ने पार्टी से राजनितिक दायित्वों से मुक्त करने का आग्रह किया है. गौतम गंभीर कै इस फैसले के बाद इस बात की चर्चा हो रही है कि भाजपा गौतम गंभीर का टिकट काट रही थी. जिसकी वजह से उन्होंने राजनीतिक पारी समाप्त करने का ऐलान कर दिया, विपक्षी भी यह आरोप लगा रहे हैं कि गौतम गंभीर ने पूर्वी दिल्ली क्षेत्र के लिए कुछ नहीं किया. जिसकी वजह से उन्हें राजनीति के मैदान से भागना पड़ा.

लेकिन इन सब आरोपों के बीच अगर हम पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर के काम का आकलन करें तो शायद ही कोई सांसद गंभीर ( Gautam Gambhir Work ) के व्यक्तिगत तौर पर किए गए कामों के समाने कोई सांसद टिक पाएगा.

पूर्वी दिल्ली का सांसद बनने के बाद गौतम गंभीर ने अपने क्षेत्र के जरूरतमंदों के लिए जन रसोई की शुरुआत की, इस जन रसोई में महज एक रूपये में भरपेट भोजन उपलब्ध कराया जाता है, रोजाना सैकड़ो लोग इस जन रसोई में जाकर भूख मिटाते है.

इस जन रसोई के माध्यम से ऐसे लोगों का पेट भरता है जो मुश्किल से एक जून की रोटी भी नहीं कमा पाते है.

कोरोना काल में जब ज्यादातर नेता घरों में कैद थे, जब गौतम गंभीर की टीम सड़कों पर उतरकर पका हुआ खाना और राशन किट का वितरण करने में जुटी थी.

गौतम गंभीर फाउंडेशन की तरफ से हजारों लोगों में रोजाना पका हुआ खाना बांटा जाता, सैकड़ो लोगों तक  राशन किट पहुंचाई जाती थी.

कोरोना मरीज जब दवा के लिए लोग दर-दर भटक रहे थे तब गौतम गंभीर ने मरीजो तक दवा पहुंचने का काम किया.

ऑक्सीजन के लिए भटक रहें मरीजों को उन्होंने लाखों की कीमत का ऑक्सीजन ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध कराया, पूर्वी दिल्ली क्षेत्र के दर्जनों आरडब्लूए, सामाजिक संस्थाओं को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर दिया ताकि आसपास के मरीजों को ऑक्सीजन की कमी नहीं हो. उन्होंने मरीज को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था की.

क्रिकेटर सांसद बने गौतम गंभीर ने पूर्वी दिल्ली क्षेत्र के युवाओं के बीच खेल प्रतिभा को भी बढ़ाने और सामने लाने का काम किया, उनके प्रयास से यमुना स्पोर्ट्स कंपलेक्स में अंतरराष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट स्टेडियम बनाया, जिसमें उनकी तरफ से ईस्ट दिल्ली प्रीमियर लीग की शुरुआत की गई, आज ईस्ट दिल्ली प्रीमियर लीग से उभरे खिलाड़ी इंडियन प्रीमियर लीग में भी जगह बनाने में कामयाब रहे हैं.

गौतम गंभीर ने न केवल क्रिकेट को बढ़ावा दिया बल्कि दूसरे खेलों को भी प्रमोट किया, गौतम गंभीर ने अपने संसदीय फंड से त्रिलोकपुरी स्थित बाबा भीमराव अंबेडकर खेल परिसर में अंतरराष्ट्रीय स्तर का फुटबॉल मैदान तैयार कराया, ताकि क्षेत्र के गरीब बच्चे को भी अंतरराष्ट्रीय स्तर के मैदान में खेलने का मौका मिले.

गौतम गंभीर जनता के बीच नहीं जाने का आरोप भी लगाया जा रहा है, लेकिन वह गौतम गंभीर कनेक्ट कार्यक्रम के माध्यम से जनता के बीच लगातार जाते रहे, उन्होंने पूर्वी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र के सभी विधानसभा में गौतम कनेक्ट कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें उन्होंने डीडीए, दिल्ली पुलिस, एमसीडी दर्जनों विभाग के अधिकारियों की टीम के साथ खुद मौजूद रहे और मौके पर ही लोगों की समस्याओं के समाधान करने की कोशिश की.

इसके अलावा जागृति एंक्लेव में उनका कार्यालय पूर्वी दिल्ली की जनता के लिए हमेशा खुला रहा, वहां मौजूद उनके कार्यकर्ता क्षेत्र के जनता के लिए लगातार खड़े ररहें.

पूर्वी दिल्ली के मंडावली चौक स्थित खाली मैदान पर खूबसूरत पार्क डेवलप करने का काम भी सांसद गौतम गंभीर ने किया है,

गौतम गंभीर ने आनंद विहार इलाके में पूर्वी दिल्ली के ढलाव घर को लाइब्रेरी बनाकर दिल्ली नगर निगम को सौपा है. जिसमें सैकड़ो की संख्या में पुस्तके उपलब्ध कराई गयी है.

गौतम गंभीर  ने संसदीय फंड से किए गए कार्यों की सभी क्रेडिट नहीं मिली, उनका मानना है कि, सांसद फंड जनता का पैसा है और वह उसे जनता तक पहुंचा रहे हैं, इसे पंहुचा कर वह कोई अहसान नहीं कर रहें है बल्कि यह उनका दायित्व है .

उनकी तरफ से पूर्वी दिल्ली के पार्कों में सैकड़ो की संख्या में लगाई गई बेंचो में लिखा गया है की ‘ ये बेंच जनता के टैक्स के पैसे से निर्मित और जनता को समर्पित’.

गौतम गंभीर अपने कार्यक्रमों में अक्सर यह कहते नजर आए की वह सेवा के लिए राजनीति में आए हैं. जिसे उन्होंने अपने कार्यों से चरितार्थ करने की कोशिश की है.