भाजपा ने सीएम अरविंद केजरीवाल को फँसाने के लिए रचा षड्यंत्र, स्वाति मालीवाल को बनाया मोहरा- AAP

Spread the love

नई दिल्ली :- वरिष्ठ आप नेता आतिशी ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर आरोप लगाया है की भाजपा ने सीएम अरविंद केजरीवाल को फँसाने के लिए षड्यंत्र रचा और इसमें स्वाति मालीवाल को मोहरा बनाया। उन्होंने कहा कि, सीएम अरविंद केजरीवाल को साज़िशन फँसाने का इरादा था लेकिन वीडियो के ज़रिए षड्यंत्र का हुआ पर्दाफ़ाश।

आतिशी ने कहा कि, स्वाति मालीवाल के पास सीएम से मिलने का कोई अपॉइंटमेंट नहीं था लेकिन वो पुलिस कर्मियों से ज़ोर-ज़बरदस्ती कर सीएम आवास में घुस गई। स्वाति मालीवाल का दावा था कि उनके साथ मारपीट हुई, वो बोलने की स्थिति में नहीं थी लेकिन वीडियो में स्वाति मालीवाल पुलिस कर्मियों को धमकाते दिखी। बिना अपॉइंटमेंट न मिलने देने पर स्वाति मालीवाल ने पुलिस कर्मियों को रौब भी दिखाया कहा- मैं राज्यसभा सांसद, रोकने की कोशिश करोगे तो नौकरी से निकलवा दूँगी।

आतिशी ने कहा कि, विभव कुमार ने ड्राइंग रूम में सीएम के उपलब्ध न होने की बात कही तो ज़बरदस्ती स्वाति मालीवाल ने घर में घुसने का प्रयास किया; अभद्रता की। उन्होंने कहा कि भाजपा की इस साज़िश का एक और सबूत ये है कि, स्वाति मालीवाल सीएम आवास के बाद पुलिस स्टेशन गई, पर पुलिस ने एमएलसी करवाने के लिए कहा पर स्वाति मालीवाल ने मना कर दिया।

आतिशी ने कहा कि, वीडियो में दिख रहा है- स्वाति मालीवाल सोफ़े पर आराम से बैठी है, न दर्द में कराह रही है, न उनके कपड़े फटे है, न उनके सिर पर चोट लगी है बल्कि वो ऊँची आवाज़ में सबको धमका रही है। उन्होंने खा कि, वीडियो से साफ़ हुआ- स्वाति मालीवाल द्वारा लगाये सारे आरोप बिलकुल निराधार, झूठ है और पूरी तरह एक साज़िश है।

वरिष्ठ आप नेता आतिशी ने कहा कि, जब से अरविंद केजरीवाल जी को बेल मिली है, भाजपा द्वारा लगाए गए झूठे केस में वो तिहाड़ जेल से बाहर आए है, तबसे भाजपा बौखलाई हुई है। इसी बौखलाहट में भाजपा ने एक षड्यंत्र रचा और उस षड्यंत्र के तहत स्वाति मालीवाल जी को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर 13 मई को सुबह-सुबह भेजा गया। इस षड्यंत्र का इरादा अरविंद केजरीवाल जी पर झूठे आरोप लगाना था। स्वाति मालीवाल इस षड्यंत्र का चेहरा और मोहरा थी।

उन्होंने कहा कि, स्वाति मालीवाल 13 मई को मुख्यमंत्री आवास पहुँची, उनका इरादा मुख्यमंत्री पर आरोप लगाना था लेकिन सीएम उस दौरान उपलब्ध नहीं थे, इसलिए वो बच गए। फिर स्वाति मालीवाल ने विभव कुमार पर आरोप लगाए लेकिन आज मुख्यमंत्री आवास का एक वीडियो सामने आया है, उस वीडियो ने स्वाति मालीवाल के झूठ को पूरे देश के सामने रख दिया है।

आतिशी ने कहा कि, स्वाति मालीवाल ने दिल्ली पुलिस में दर्ज अपने एफ़आईआर में कहा था कि, उनकी बेरहमी से पिटाई हुई, उनके सिर पर चोट लगी, पिटाई के बाद वो दर्द में कराह रही थी, उनसे बोला नहीं जा रहा था, वो पुलिस को बार-बार कह रही थी कि, उन्हें मारा गया है। स्वाति मालीवाल ने अपनी शिकायत में लिखा कि उनका सिर टेबल में लगा और सिर फट गया। उनके कपड़े फाड़े गए, शर्ट के बटन तोड़े गए।

उन्होंने कहा कि, लेकिन आज जो वीडियो सामने आया है जो इन सबके बिलकुल विपरीत है। वीडियो में दिख रहा है कि, स्वाति मालीवाल उस ड्राइंग रूम में बहुत आराम से बैठी हुई है, वो पुलिस कर्मियों को ऊँची आवाज़ में डरा-धमका रही है। विभव कुमार, जिसपर स्वाति मालीवाल ने आरोप लगाया है, उन्हें भी ऊँची आवाज़ में धमका रही है, उनके लिए अपशब्दों का प्रयोग कर रही है। वीडियो में उन्हें कपड़े फटे नहीं है, उनके सिर पर चोट भी नहीं दिख रही है। सिर्फ़ एक चीज दिख रही है कि वो ऊँची आवाज़ में पुलिस और विभव कुमार जी को धमका रही है। और कही भी इस बात का ज़िक्र नहीं करती कि किसी ने उनको छुआ है या उनपर हमला किया है। आज के इस वीडियो ने साफ़-साफ़ देश के सामने रख दिया है कि, स्वाति मालीवाल जी द्वारा लगाये ये सारे आरोप बिलकुल निराधार और झूठ है।

आतिशी ने कहा कि, विभव कुमार ने आज दिल्ली पुलिस में स्वाति मालीवाल के ख़िलाफ़ अपनी शिकायत दर्ज की है और उस शिकायत में 13 मई के घटनाक्रम को स्पष्ट रूप से रखा है।

उन्होंने साझा किया कि, 13 मई की सुबह स्वाति मालीवाल बिना किसी अपॉइंटमेंट के सीएम आवास पहुँची। वहाँ सिक्योरिटी में तैनात लोगों ने जब उनसे आने की वजह पूछी तो स्वाति मालीवाल ने कहा कि उनका सीएम से अपॉइंटमेंट है। सिक्योरिटी में तैनात लोगों ने ऑफिस में क्रॉस चेक किया तो उन्हें पता चला कि ऑफिस से कोई अपॉइंटमेंट नहीं लिया गया है। इसलिए स्वाति मालीवाल को गेट पर रोका गया लेकिन वहाँ भी स्वाति मालीवाल ने पुलिस वालों को धमकाया और कहा कि ‘मैं राज्य सभा की सांसद हूँ, मुझे रोकोगे तो मेरे पास तुम्हारी नौकरी लेने की शक्ति है’। और वो पुलिस वालों से झगड़ा कर सीएम आवास परिसर में घुस गई।

सिक्योरिटी ने उन्हें फिर कहा कि, वो बिना अपॉइंटमेंट सीएम आवास में नहीं जा सकती है। उन्हें सीएम आवास के बाहर वेटिंग रूम में लेकर ज़ाया गया और बताया गया कि उनके पास अपॉइंटमेंट नहीं है। वेटिंग रूम में बैठने के कुछ देर बाद वो ज़ोर ज़बरदस्ती कर सीएम आवास में मुख्य बिल्डिंग जहां सीएम और उनका परिवार रहता है, घुस गई और वहाँ के ड्राइंग रूम में जाकर बैठ गई। वहाँ उन्होंने कहा कि, ‘सीएम को बुलाओ, अभी बुलाओ, मुझे अभी मिलना है।’

आतिशी ने कहा कि, स्वाति मालीवाल जी राज्यसभा सांसद है, क्या उन्हें पता नहीं है कि मुख्यमंत्री से अपॉइंटमेंट लेने का तरीक़ा क्या है? क्या उन्हें नहीं पता कि मुख्यमंत्री के शेड्यूल लगे होते है और कई मौक़ों पर वो उपलब्ध नहीं होते है। ऐसे में बिना अपॉइंटमेंट ज़ोर-ज़बरदस्ती कर वो मुख्यमंत्री आवास में घुस गई और वहाँ सीएम से मिलने के लिए ज़बरदस्ती करने लगी।

तब सीएम आवास के कर्मचारियों ने विभव कुमार जी को फ़ोन किया। 10-15 मिनट बाद वो आए और स्वाति मालीवाल को बताया कि अभी सीएम उपलब्ध नहीं है और मिल नहीं सकते। इसके बाद स्वाति मालीवाल ने विभव कुमार के साथ ऊँची आवाज़ में बात करना शुरू कर दिया और कोशिश की कि, ड्राइंग रूम से निकलकर घर के अंदर के हिस्सों में जाए लेकिन विभव कुमार उनके सामने खड़े हो गये और स्वाति मालीवाल को अंदर नहीं जाने दिया। स्वाति ने उन्हें धक्का देने की कोशिश की लेकिन विभव खड़े रहे और उन्होंने स्वाति मालीवाल को अंदर नहीं जाने दिया। फिर विभव कुमार बाहर आये सीएम आवास के सिक्योरिटी में तैनात कर्मचारियों को अंदर बुलाया और स्वाति मालीवाल को बाहर एस्कॉर्ट करने को कहा।

इस पूरे घटनाक्रम से एक चीज साबित होती है कि ये भाजपा द्वारा सोचा गया एक षड्यंत्र था जिसमें मुख्यमंत्री को फँसाना था और स्वाति मालीवाल को इसका चेहरा बनाया गया। तभी सुबह-सुबह ज़ोर ज़बरदस्ती से मुख्यमंत्री आवास में घुसकर मुख्यमंत्री से मिलने की ज़बरदस्ती की जा रही थी।

आतिशी ने कहा कि, ये षड्यंत्र इस बात से भी साबित होता है कि, स्वाति मालीवाल सीएम आवास के बाद पुलिस थाने गई, पुलिस ने उन्हें एमएलसी करवाने के लिए कहा लेकिन स्वाति मालीवाल जी ने मना कर दिया। फिर 3 दिन बाद भाजपा फिरसे एक नए झूठ के साथ स्वाति मालीवाल जी को सामने लेकर आई। लेकिन ये सारा प्रकरण आज जो वीडियो सामने आया है, जिस प्रकार से स्वाति मालीवाल पुलिस को, विभव कुमार को धमका रही है; जिस प्रकार से वीडियो देखकर पता चल रहा है कि, वो सोफ़े पर आराम से बैठी है, न दर्द में कराह रही है, न उनके कपड़े फटे है, न उनके सिर पर चोट लगी है। ये पूरा वीडियो स्वाति मालीवाल के झूठ को सामने लाकर भाजपा के षड्यंत्र का पर्दाफ़ाश करता है।