‘आप’ ने राज्यसभा चुनाव के लिए उम्मीदवार किए घोषित, दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल बनीं राज्यसभा उम्मीदवार, संजय सिंह और एनडी गुप्ता को दोबारा मौका

Spread the love

नई दिल्ली : दिल्ली में 19 जनवरी को होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी ने शुक्रवार को अपने तीन उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी.

‘‘आप’’ की पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी ने पार्टी की तरफ से मौजूदा राज्यसभा सदस्य संजय सिंह और एनडी गुप्ता के अलावा दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के नाम पर मुहर लगा दी है.

स्वाति मालीवाल पहली बार राज्यसभा में पहुंचेंगी। ये तीनों उम्मीदवार जल्द ही राज्यसभा चुनाव के लिए अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगे.

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी की बैठक हुई। इस बैठक में कमिटी ने मौजूदा सांसद संजय सिंह और एनडी गुप्ता को फिर से राज्यसभा के लिए नामांकित करने का निर्णय लिया। इस दौरान सांसद सुशील कुमार गुप्ता ने हरियाणा में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव में खुद को पूरी तरह से झोंकने की इच्छा व्यक्त की।

आम आदमी पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि सांसद सुशील कुमार गुप्ता ने हरियाणा की चुनावी राजनीति में पूरी तरह से सक्रिय होकर काम करने की इच्छा जताई है और पार्टी उनके इस फैसले का पूरा सम्मान करती है।
बता दें कि संजय सिंह और एनडी गुप्ता वर्तमान में राज्यसभा सदस्य हैं। ‘‘आप’’ ने उनके बेहतरीन कार्य को देखते हुए राज्यसभा सदस्य के रूप में दूसरे कार्यकाल के लिए उनके नामों को प्रस्तावित किया है।

वहीं, आम आदमी पार्टी ने राज्यसभा चुनाव के लिए तीसरा नाम स्वाति मालीवाल का प्रस्तावित किया है। स्वाति मालीवाल भारत की एक चर्चित एक्टिविस्ट हैं और दिल्ली महिला आयोग की वर्तमान अध्यक्ष भी हैं। स्वाति मालीवाल बहुत कम उम्र में अपने करियर की शुरूआत करते हुए महिलाओं के अधिकारों और सामाजिक मुद्दों को मजबूती से उठाती रही हैं। वो महिलाओं के खिलाफ हिंसा का डंटकर मुकाबला करने, कड़े कानूनों की वकालत करने के साथ-साथ लैंगिक समानता को बढ़ावा देने के लिए कई कैंपेन और आंदोलनों से भी जुड़ी रही हैं।

स्वाति मालीवाल को साल 2015 में दिल्ली महिला आयोग के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था। बतौर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष उन्होंने एसिड अटैक, यौन उत्पीड़न और महिला सुरक्षा जैसे गंभीर मुद्दों का समाधान निकालने के लिए पहल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। महिलाओं के कल्याण और उनके अधिकारों के लिए किए गए उनके प्रयासों के चलते आज वो भारत में सामाजिक एक्टिविज्म के क्षेत्र में काम करने वाली प्रमुख चेहरा हैं।