भाजपा पर ऑपरेशन लोटस का आरोप, ‘‘आप’’ विधायक ऋतुराज गोविंद ने किया 25 करोड़ और मंत्री बनाने के ऑफर का दावा

Spread the love

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी ने पार्टी के विधायक को खरीदने की कोशिश का एक बार फिर से भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाया है. आम आदमी पार्टी का आरोप हैकी
भाजपा ने एक बार फिर दिल्ली में आम आदमी पार्टी के विधायकों को खरीद कर अपनी सरकार बनाने के लिए ऑपरेशन लोटस शुरू कर दिया है.

सीएम अरविंद केजरीवाल की झूठे आरोपों में गिरफ्तारी के बाद भाजपा दिल्ली की ‘‘आप’’ सरकार को अस्थिर करने में जुट गई है.

सोमवार को विधानसभा सत्र के दौरान ‘‘आप’’ के विधायक ऋतुराज गोविंद ने सदन में सनसनीखेज खुलासा करते हुए दावा किया कि रविवार की रात एक शादी समारोह में उनसे तीन-चार लोग मिले। उन्हांेने ‘‘आप’’ के 10 और विधायकों को तोड़कर अपने साथ लाने पर पूर्वांचल कोटे से मंत्री बनाने का लालच दिया और सभी विधायकों को 25-25 करोड़ रुपए देने का ऑफर दिया.

ऋतुराज झा ने कहा कि सोमवार सुबह 9ः14 बजे मुझे इंटरनेट कॉल कर धमकी दी गई कि रात में हुई बातचीत किसी को बताया तो अच्छा नहीं होगा। इस खुलासे पर विधायक दिलीप पांडे ने कहा कि भाजपा कह रही है कि केजरीवाल को बिना सबूत के गिरफ्तार कर लिया। अब दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगाएंगे और आम आदमी पार्टी को तोड़ेंगे। ‘‘आप’’ ने इसकी निष्पक्ष जांच की मांग की है.

दिल्ली विधानसभा के सत्र के दौरान आम आदमी पार्टी के विधायक ऋतुराज गोविंद ने कहा कि 21 मार्च 2024 को देश के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को एक फर्जी केस में फंसाकर गिरफ्तार कर लिया गया। सरथ रेड्डी और मगुंटा रेड्डी समेत चार लोगों की फर्जी गवाही के आधार पर गिरफ्तारी हुई। अगर गवाही पर ही गिरफ्तारी होनी है तो भारत के प्रधानमंत्री मोदी जिस वक्त गुजरात के मुख्यमंत्री थे, उस समय सामने आई सहारा और बिड़ला की डायरी में भी साफ-साफ लिखा था कि जिस समय प्रधानमंत्री मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री के पद पर थे, तब उनको कितना पैसा दिया गया। अभी तक उनको जेल में होना चाहिए था।

“आप” विधायक ऋतुराज गोविंद कहा कि सदन में पहले भी कई बार इस बात पर चर्चा हो चुकी है कि किस तरह से ऑपरेशन लोटस के नाम पर एक राजनीतिक षड़यंत्र करके दिल्ली की सरकार और आम आदमी पार्टी को कुचलने की कोशिश की जा रही है। ऑपरेशन लोटस पूरे देश में एक ही पार्टी चलाती है, उसका नाम बीजेपी है। चाहे वो कर्नाटक, उत्तराखंड, गोवा या कोई अन्य राज्य हो, यही हर जगह देखा गया है। दिल्ली में भी पहले से ही 3-4 बार ये कोशिश की जा चुकी है। हमारे कई साथियों से सपर्क करने की कोशिश पहले भी की गई है। ये लोग दिल्ली की सरकार को गिराना चाहते है। क्योंकि अरविंद केजरीवाल देश के अंदर एकमात्र ऐसे नेता हैं, जिन्होंने दिल्ली में बैठे हुए प्रधानमंत्री मोदी को दिल्ली में चार बार हराया है। पहले उन्हें 2013, 2015 और 2020 में हराया फिर 2022 में नगर निगम के चुनाव में हराया।

“आप” विधायक ऋतुराज गोविंद ने कहा कि अब भाजपा ने दिल्ली में अपना घटिया काम फिर से शुरु कर दिया है। अभी तक तो केवल राष्ट्रपति शासन लगाने की बाते सुनने में आ रही थीं। रविवार को महारैली के बाद जब मैं बवाना के दरियापुर में एक शादी में गया तो वहां तीन-चार लोग मुझे एक तरफ ले गए और मुझसे कहा कि हम आपको बार-बार फोन पर मनाने और बताने की कोशिश कर रहे हैं। अगर आप नहीं मानोगे तो कुछ नहीं मिलेगा। दिल्ली के अंदर राष्ट्रपति शासन लगाने वाले हैं। आप मान जाओ और अपने साथ 10 विधायकों को तोड़कर ले आओ। सबको 25-25 करोड़ रुपए देंगे और आपको मंत्री पद देंगे, जब दिल्ली में बीजेपी अपनी सरकार बनाएगी। आप पूर्वांचल के नेता हो, आपके संपर्क में बहुत लोग हैं, आपकी सबसे अच्छी बातचीत है, आप उनसे हमारी तरफ से बात करो और हमें रिपोर्ट करो। हम पहले से ही बहुत सारे लोगों के संपर्क में हैं। हम सबको 25-25 करोड़ रुपए भी देंगे और दिल्ली में पूर्वांचल कोटा से मंत्री भी बनाएंगे। जब मैंने उनसे कहा कि तुम्हें क्या लगता है कि हम इतनी आसानी से टूट जाएंगे। इस पर वो बोले कि बेवकूफी मत करो। अगर आप नहीं मानोगे तो दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लग जाएगा और दिल्ली में राष्ट्रपति शासन तब तक रहेगा, जब तक हम दिल्ली में बीजेपी सरकार बनाने की स्थिति में नहीं आ जाती है।

“आप” विधायक ऋतुराज ने कहा कि रविवार रात 9 बजकर 18 मिनट पर मैं जिस जगह था, वहां पर मौजूद उन सभी बीजेपी के नेताओं का लोकेशन निकलकर सामने आ जाएगी। रात में उनसे बातचीत होने के बाद, सुबह 9 बजकर 14 मिनट पर एक इंटरनेट कॉल आई, जिसपर मुझे धमकी दी गई कि रात में हमारे बीच जो बातचीत हुई है, अगर उसके बारे में किसी को बताया तो आपके साथ ठीक नहीं होगा। इन्होंने बाद में भी कई बार फोन किया। ये लोग मुझे धमकी दे रहे हैं। रात को मुझ से बात होने के बात जब इन्हें लगा कि ये सबको जाकर बता देगा तो ये सुबह से मुझे इंटरनेट के जरिए फोन कर रहे हैं। ये मुझसे बार-बार कह रहे हैं कि अगर तुमने अपना मुंह खोला तो तुम्हारे लिए अच्छा नहीं होगा।

सदन में अपनी बात रखने के दौरान विधायक ऋतुराज भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि इन लोगों ने हमारे नेता को झूठे मुकदमे में अंदर कर दिया और अब हम लोगों को डरा रहे हैं। लेकिन हम डरने वाले नहीं हैं। हम मर जाएंगे, कट जाएंगे लेकिन अपने नेता अरविंद केरजीवाल के साथ कभी गद्दारी नहीं करेंगे। ये कह रहे हैं कि दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगा देंगे। दिल्ली की 2 करोड़ जनता ने अपने नेता को चुना है। हम सब काम करना चाहते हैं। एक घटिया राजनीति के तहत इन्होंने सरथ रेड्डी से 60 करोड़ रुपए लेकर फर्जी केस में सीएम अरविंद केजरीवाल को जेल भिजवा दिया। चंदा घोटाला किया और अब दिल्ली में ऑपरेशन लोटस चला रहे हैं। ऋतुराज ने कहा कि मुझे पहली बार संपर्क किया गया है और मैं पूरे सबूत के साथ सदन में ये बात रख रहा हूं। इसकी जांच होनी चाहिए।

उन्होंने आगे कहा कि इसी तरह से हम पहले केवल सुनते थे कि ये लोग वोटों की चोरी करते हैं, पर ये कभी पकड़े नहीं जाते थे। लेकिन फिर चंडीगढ़ मेयर चुनाव में ये लोग रंगे हाथ पकड़े गए। ये दोनों रंगा-बिल्ला पूंजीपतियों के दलाल हैं। ये पूंजीपतियों के इशारे पर सरकार चलाते हैं। इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्यम से देश के सामने इनकी चोरी पकड़ी गई है। आज देश के सामने है कि इन्होंने किस तरह से एक सट्टा चलाने वाली फ्यूचर गेमिंग कंपनी, बीफ कंपनी, शराब माफिया सरथ समेत कई लोगों से पैसा लिया है। अब साबित करने के लिए कुछ बचा नहीं है। जहां पार्टी तोड़ जाती है, दंगे कराए जाते हैं, वहां एक ही पार्टी का हाथ है। हम सीएम अरविंद केजरीवाल के साथ मरते दम तक खड़े हैं। उन्होंने हमें रामलीला मैदान से उंगली पकड़कर चलना सिखाया। राजनीति में आने की हमारी औकात नहीं थी। मैं एक छोटे से मास्टर का बेटा था, छोटी-मोटी नौकरी करता था। उन्होंने हमें उंगली पकड़ कर चलना सिखाया। हम मर जाएंगे, लेकिन कभी अपने नेता अरविंद केजरीवाल के साथ गद्दारी नहीं करेंगे।

वहीं, आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं विधायक दिलीप पांडे ने कहा कि दिल्ली विधानसभा के पटल पर जिस तरह से विस्फोटक खुलासे हुए, उससे एक बार फिर यह स्पष्ट हो गया कि अगर देश के लोकतंत्र और बाबा साहब अंबेडकर के लिखे संविधान को खतरा है, तो वो सिर्फ बीजेपी से हैं। बीजेपी ऑपरेशन लोटस के नाम पर देश में असंवैधानिक और अनैतिक तरीके से विधायकों और सांसदों की खरदी फरोख्त करके और केंद्रीय एजेंसियों के जरिए उनपर दबाव बनाकर लगातार चुनावी लोकतंत्र को अस्थिर करती रही है। हमने दिल्ली में भी देखा कि एक समय में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने दिल्ली के विधायकों को 5-5 करोड़ रुपए में खरीदने की कोशिश की थी। पिछले कुछ में महीनों में भी दिल्ली में ऐसी कई सारी घटनाएं हुईं। पंजाब के विधायक को तोड़ने और खरीदने की कोशिश की गई, जिसका पंजाब के विधायकों ने खुलासा किया।

उन्होंने कहा कि सीएम अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के बाद बीजेपी ने फिर से अपना लोकतंत्र विरोधी घिनौना चेहरा सामने लाते हुए दिल्ली के विधायकों को तोड़ने की फिर नाकाम कोशिश की है। विधायकों से अलग-अलग तरीकों से संपर्क करके उनसे कहा जा रहा है कि देखो हमने पहले भी कहा था, तुम चीखते और बताते रह गए कि अरविंद केजरीवाल की बेबुनियाद गिरफ्तारी होने वाली है लेकिन कुछ नहीं कर पाए। हमने बे-सिर- पैर के आरोप लगाकर आखिरकार सीएम अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार कर ही लिया। जब हमने बिना किसी सबूत और मनी ट्रेल के सीएम अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार कर लिया है, तुम लोगों को तो हम कभी भी पकड़ सकते हैं और अब जब उनको गिरफ्तार कर ही लिया है तो हम दिल्ली को राष्ट्रपति शासन की ओर धकेलेंगे और फिर आम आदमी पार्टी को तोड़ेंगे और खत्म करेंगे। उसके बाद जब दिल्ली में हमारी सरकार बनेगी, तब भी अगर तुम हमारे साथ आ गए तो पैसा मिलेगा। 10 लोगों को लेकर आ जाओगे तो मंत्री पद भी देंगे और सत्ता में बने रहोगे। उन्होंने कहा कि बीजेपी ये सारे प्रलोभन देने के बाद ये भूल गई कि आम आदमी पार्टी के विधायक भगत सिंह के चेले हैं। हम अरविंद केजरीवाल के सच्चे सिपाही हैं। हमने मरते दम तक दिल्ली के लोगों की सेवा करने की जो प्रतिज्ञा ली थी, उसे अरविंद केजरीवाल के दिशा निर्देशों पर पालन करते रहेंगे। अरविंद केजरीवाल की तरह ही आम आदमी पार्टी के सभी विधायकों का कहना है कि चाहें कुछ भी कर लो, हमारा जीवन देश की सेवा के लिए समर्पित है।