उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शहीदी पार्क भारत के पहले बाह्य संग्रहालय का उद्यान किया

नई दिल्ली :- दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना और दिल्ली के माननीय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली नगर निगम द्वारा विकसित शहीदी पार्क का उद्घाटन आईटीओ पर किया. शहीदी पार्क दिल्ली नगर निगम द्वारा विकसित भारत का प्रथम बाह्यसंग्रहालय उद्यान है.

इस अवसर पर दिल्ली की महापौर डॉ. शैली ओबेरॉय, उप महापौर, आले मोहम्मद इकबाल, नेता सदन, मुकेश गोयल, विधायक, प्रवीण कुमार, क्षेत्रीय पार्षद सारिका चौधरी, दिल्ली नगर निगम के आयुक्त, ज्ञानेश भारती व अन्य गणमान्य अतिथिउपस्थित थे।

इस अवसर पर उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने कहा कि यहां पर आकर मैं खुद को गौरवांवित महसूस कररहा हूं। “आजादी का अमृत महोत्सव पार्क” दिल्ली में एक नए स्थायी संपत्ति के रूप में आज हमारे सामने है.

इस मौके पर उन्होंने भारत सरकार का धन्यवाद किया, जिनके द्वारा प्रदत्त 15 करोड़ रुपयों से इस पार्क का निर्माण और विकास कियागया है. उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार लगातार दिल्ली के कायाकल्प और विकास के लिएहर संभव सहायता प्रदान करती रही है. यूईआर हो, दिल्ली के रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास या कड़कड़डूमा टीओडी परियोजना, ये सभी दिल्ली के लोगों के लिए अभूतपूर्वविकास के अवसर प्रदान करेंगे. इ
सी तरह द्वारका में डीडीए द्वारा 560 करोड़ की लागत से भारत वंदना पार्क विकसित किया जा रहा है जो राजधानी को एक नयास्वरूप देगा.

उन्होंने बताया कि शहीदी पार्क की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह पार्क 250 टन कबाड़ से तैयार किया गया एक थीम बेस्ड पार्क है। और दिल्ली में इस तरह का यह तीसरा पार्क है.

दिल्ली के यह तीनों पार्क अलग-अलग थीम पर हैं.जैसे वेस्ट टू वंडर पार्क में जहां आपको दुनिया के सात अजूबे दिखाई देंगे, वहीं भारत दर्शन पार्क में देश के चुनिंदा स्मारकों और इनके बारे में रोचक जानकारी मिलेगी.

एमसीडी ने इस शहीदी पार्क को बनाने में लोहे का खराब सामान, बिजली के पुराने खंभे, पुरानी कारें, ऑटो मोबाइल पार्ट्स का इस्तेमालकिया है, जिन्हें हम बेकार समझ कर फेंक देते हैं। एमसीडी ने वेस्ट टू वंडर का जो नायाब तरीका देश के सामने रखा है, उससे हम सभी को सीखने की जरूरत है।इस तरह के पार्कों केजरिए दिल्ली को जो स्थायी संपत्ति मिल रही हैं, वह दिल्ली की खूबसूरती में चार चांद लगा रही हैं। एमसीडी जल्द ही पूर्वी दिल्ली में भीइसी तरह का थीम बेस्ड पार्क बनाने की दिशा में प्रयास कर रही है, जो बॉलिवुड आधारित होगा। शहीदी पार्क में देश के स्वर्णिम युग कीभी एक झलक देखने को मिलेगी। यहां आकर हमको अपने भारतीय होने और भारत की स्वर्णिम विरासत पर गर्व होता है। इसमें आपकोराजा पोरस, चाणक्य-चंद्रगुप्त, सम्राट अशोक से लेकर मिहिर भोज और राजेंद्र चोल तक की मूर्तियां यहां मौजूद हैं। यह वह दौर था जबहमारे देश की गिनती विश्व के सर्वश्रेष्ठ देश के रूप में होती थी। उस दौर में हम न केवल वैभव और संपन्नता में, बल्कि शिक्षा के क्षेत्र मेंभी अन्य देशों से अग्रणी थे। हमारे स्वर्णिम युग का जिक्र विश्व के कई इतिहासकारों ने अपनी किताबों में भी किया है। इसके अलावा1282 से 1763 के दौर में आपको महाराणा हमीर देव, राणा कुंभा, पृथ्वीराज चौहान आदि महान सपूतों के बारे में जानकारी यहांउपलब्ध है। इसके बाद के कालखंड में मराठा साम्राज्य के वीर शिवाजी से लेकर महादजी सिंधिया और सिख साम्राज्य के बंदा बहादुरसे लेकर हरि सिंह नलवा तक के बारे में आपको पता चलेगा।

यह पार्क देश की आजादी के लिए हुए 1857 के पहले विद्रोह, जन आंदोलन, स्वतंत्रता संग्राम, संस्कृति और समाजिक जागरुकता, स्वदेशी आंदोलन और सत्याग्रह, भारत की आजादी और विभिन्न रियासतों के एकीकरण की कहानी को बयां कर रहा है। इस पार्क मेंइन सभी घटनाक्रमों को बड़ी ही खूबसूरती से दिखाया गया है। इसमें दुकानें और फूड कियोस्क भी हैं।

उन्होंने बताया की सितंबर में जी-20 सम्मेलन दिल्ली में होने वाला है और जो विदेशी अतिथी इस दौरान दिल्ली में आएंगे उन्हें भी इसकी झलक देखने को मिलेगी। उन्होंने अधिक से अधिक लोग इस पार्क को देखने आने का आग्रह किया।

देश की संस्कृति, इतिहास को जिस प्रकारसे दिखाया गया है, वह बेहद शानदार और प्रेरक है

अरविंद केजरीवाल ने कहा यह अद्भुत पार्क है। मैं इस शानदार पहल के लिए दिल्ली नगर निगम केसभी अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई देता हूं। मुख्यमंत्री ने कहा माननीय उप राज्यपाल ने इस शानदार पार्क की आधारशिलारखी थी और करीब एक साल के भीतर ही इस पार्क को तैयार कर लिया गया। इस पार्क में देश की संस्कृति, इतिहास को जिस प्रकारसे दिखाया गया है, वह बेहद शानदार और प्रेरक है। श्री केजरीवाल ने कहा जिस प्रकार चंडीगढ़ जाने वाले लोग रॉक गार्डन को अवश्यही देखते हैं, उसी प्रकार शहीदी पार्क भी दिल्ली को नई पहचान देगा और लोग लाल किला, जामा मस्जिद के साथ-साथ शहीदी पार्कदेखने भी आया करेंगे। श्री केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के स्कूलों के बच्चों को राष्ट्रभक्ति की प्रेरणा देने के लिए इस पार्क में लायाजाएगा और उन्हें निशुल्क ही इसका भ्रमण करवाया जाएगा।

केजरीवाल ने कहा जिस प्रकार चंडीगढ़ जाने वाले लोग रॉक गार्डन को अवश्यही देखते हैं, उसी प्रकार शहीदी पार्क भी दिल्ली को नई पहचान देगा और लोग लाल किला, जामा मस्जिद के साथ-साथ शहीदी पार्कदेखने भी आया करेंगे। श्री केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के स्कूलों के बच्चों को राष्ट्रभक्ति की प्रेरणा देने के लिए इस पार्क में लायाजाएगा और उन्हें निशुल्क ही इसका भ्रमण करवाया जाएगा।

केजरीवाल ने कहा कि निगम के इस प्रयास से निगम का राजस्व भी बढ़ेगा और बच्चों में देशभक्ति की भावना का संचार भी होगा।श्री केजरीवाल ने कहा दिल्ली नगर निगम को अब शहर की सफाई पर और भ्रष्टाचार खत्म करने पर काम करना है। निगम ने इस दिशामें प्रयास भी शुरू कर दिए हैं और पहली तिमाही में इन प्रयासों के सकारात्मक परिणाम भी मिले हैं। पिछले साल की तिमाही केमुकाबले इस साल निगम का राजस्व बढ़ा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि निगम ऐसी बहुत सारी परियोजना रहा है जिससे निगम का राजस्वबढ़ेगा और निगम फंड की कमी की समस्या से बाहर निकलेगा। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य दिल्ली को साफ-सुथरा व सुंदर शहरबनाना है और हम दिल्ली की जनता के साथ मिलकर इस लक्ष्य को अवश्य हासिल करेंगे

महापौर डॉ. शैली ओबेरॉय ने शहीद पार्क के उद्घाटन के अवसर पर सभी निगम अधिकारियों व कारीगरों को बधाई दी। उन्होंने बतायाकि इस पार्क को 250 टन कबाड़ के माध्यम से बनाया गया है और यह पार्क भारत के इतिहास को बताने के साथ साथ उसे दर्शाता भीहै। उन्होंने कहा कि दिल्ली ही नहीं पूरे देश के नागरिकों को आकर एक बार इस पार्क को देख कर गर्व की अनुभूति का एहसास करनाचाहिए। उन्होंने बताया कि 10वीं सदी से 65000 सालों तक के इतिहास को यहाँ देखा जा सकता है, जहाँ पर सम्राट अशोक, चंद्रगुप्तमौर्य, महाराणा प्रताप, पेशवा से लेकर स्वाधीनता संग्राम तक का इतिहास कलाकृतियों के माध्यम से दर्शाया गया है। उन्होंने बताया कियह पार्क विद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों को देश का इतिहास एक अनूठे रूप में समझने में सहायता करेगा।

महापौर ने बताया कि दिल्ली नगर निगम सफ़ाई से लेकर 15, हज़ार पार्कों को सजाने सँवारने का कार्य कर रहा है ताकि दिल्ली केनागरिकों को सर्वश्रेष्ठ सुविधाएँ दी जा सके। उन्होंने बताया कि दिल्ली नगर निगम माननीय मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में दिल्ली को सजाने सँवारने का कार्य कर रही है ताकि नागरिकों को बेहतर शहर के साथ बेहतर सुविधाएँ प्रदान की जा सके।

निगमायुक्त ज्ञानेश भारती ने इस अवसर पर उपस्थित सभी गणमान्यअतिथियों का स्वागत किया और कहा कि दिल्ली नगर निगम के अंतर्गत 15 हज़ार से ज़्यादा पार्क हैं और निगम हर पार्क को सर्वश्रेष्ठ बनाने का प्रयास कर रहीहै। इसी प्रयास में आज जनता को वेस्ट टू आर्ट आधारित शहीदी पार्क की सौग़ातदे रही है। उन्होंने बताया कि भारत सरकार के आवासन व शहरी कार्य मंत्रालयद्वारा शहीदी पार्क परियोजना के विकास के लिए लगभग 15 करोड़ रुपये का फंडउपलब्ध करवाया गया था।